Saturday, 14 November 2015

तेरे बिन जीना या मौत ज्यादा मुश्किल है? ...



हा जुदाई से डरता है दिल.. हा जुदाई से डरता है दिल.. मौत से तो मे डरता नही..और डरता तो सुन ले सनम... सुन ले सनम.... प्यार तुझसे मै करता नही..प्यार तुझसे मै करता नही..


मैं अकेला ना रह पाऊंगा ...दूर तक रात ही रात है ... जिन्दगी इक अलग चीज है ...जिन्दा रहना अलग बात है .. उम्र कैसे गुजर पाएगी ....उम्र कैसे गुजर पाएगी .... इक पल जब गुजरता नहीं .....और डरता तो सुन ले सनम... सुन ले सनम..... प्यार तुझसे मै करता नही..प्यार तुझसे मै करता नही..


गम का मौसम गुजरता नहीं ...जख्म यादो का भरता नहीं ... रात पर्वत है कटती नहीं ...दिन है दरिया उतरता नहीं ... मेरी नींदों में आजायेगी ...धुप सूरज का खंजर लिए ... तोड़ने मेरा दिल आएगा चाँद हाथो में पत्थर लिए ...

दिल डरता है मुझको मगर ....दिल डरता है मुझको मगर .... मैं यकीं दिल पे करता नहीं ....और डरता तो सुन ले सनम... सुन ले सनम.... प्यार तुझसे मै करता नही..प्यार तुझसे मै करता नही..
हा जुदाई से डरता है दिल..मौत से तो मे डरती नही... और डरती तो सुन ले सनम...सुन ले सनम... प्यार तुझसे मै करती नही..हा जुदाई से डरता है दिल....


एक अरमान इस पार है...एक अरमान उस पार है.... हमने खुद ही बनायी थी जो....रास्ते मे वोह दीवार है.... एक ख़ुशी दिल ने क्या मांग ली.....हर ख़ुशी को नज़र लग गयी.... ज़िन्दगी जब करीब आई तो.....ज़िन्दगी को नज़र लग गयी.....


अब तमन्ना हो दिल मै कोई....मै तमन्ना भी करती नही.... और डरती तो सुन ले सनम..... सुन ले सनम..... प्यार तुझसे मै करती नही....हा जुदाई से डरता है दिल..


मन से मन का है बंधन अगर....तन मिले ना मिले कुछ नही... मन का चन्दन मेहेकता रहे....मन ही सब कुछ है तन कुछ नही... आसमानो मे सो जायेगा...दस्तानो मे खो जायेगा.... तन किसी रोज़ बन कर धुंआ....इन हवाओ का हो जायेगा


प्यार रहता है जिंदा सदा...आत्मा है यह मरती नही... और डरती तो सुन ले सनम... सुन ले सनम... प्यार तुझसे मै करती नही.. हा जुदाई से डरता है दिल..



कई बार जिंदगी में फ़िल्मी गाने हकीकत बनकर उभर आते है। ऐसे ही इस गाने ने मेरे जीवन का सारांश जाने अनजाने लिख दिया। ....

By
Kapil Kumar 
Post a Comment