Sunday, 15 November 2015

तुम ही हो मेरे खुदा !!



तुम ही तो हो मेरे खुदा ..... तुम ही हो मेरे खुदा.... किये है सारे सजदे मेने ..बस होके तुमपे फ़िदा ... तुम ही तो हो मेरे खुदा ..... तुम ही हो मेरे खुदा....


तुम ही तो हो मेरी दिलरुबा ..... तुम ही हो मेरी दिलरुबा ... कैसे रहूँगा मैं जिन्दा , हो गया अगर तुमसे जुदा ..... तुम ही हो मेरे दिलरुबा ..... तुम ही हो मेरे खुदा.....


तुम ही हो मेरे नाखुदा ... तुम ही हो मेरे नाखुदा ... लड़  गया इन तुफानो से अकेला ... मैं तो करके तुमपे वफ़ा .. तुम ही तो हो मेरी नाखुदा ..... तुम ही हो मेरे खुदा.....


तुम ही हो मेरे महकशा ..... तुम ही हो मेरे महकशा ..... आँखों में समा कर जिसे , पी रहा हूँ जिन्दगी का नशा ... तुम ही हो मेरे महकशा ..... तुम ही हो मेरे खुदा .....



तुम ही हो मेरे वफ़ा ..... तुम ही हो मेरे वफ़ा ..... दिल की आईने में सजती है , तस्वीर जिसकी सबसे जुदा .... तुम ही हो मेरे वफ़ा ..... तुम ही हो मेरे खुदा .....


By
Kapil Kumar 
Post a Comment